Get Rich with Market Mantra - Right Strategy for a Secure Life Earning.

Think & Grow Rich - Everyone Deserve to be Rich, Make the right connect with stock marketing courses.

Nimish Sir - Exclusive Guest of Speaker at CNBCTV -18. Sharing thoughts on Profit Booking Stock Market.

Money is Never Hard to Earn. Only Needs right Guidance.

 

बाजार उछाल के साथ बंद

STOCK MARKET ANALYSIS

मुंबई- तीन दिन तक भारी उछाल के बाद आद चौथे दिन भी बाजार में तेजी रही, लेकिन यह काफी कम रही। पर बाजार उछाल के साथ बंद हुआ। बाजार में छोटे दायरे में उतार-चढ़ाव देखने को मिला। अंत में सेंसेक्स और निफ्टी हरे निशान में बंद हुए। निफ्टी आज 10800 के उपर बंद होने में कामयाब रहा। वही, सेंसेक्स 35960 के ऊपर बंद हुआ। बैंक और मिडकैप इंडेक्स आज सपाट बंद हुए हैं।

दिग्गज शेयरों के साथ ही मिड और स्मॉलकैप शेयरों में भी सुस्ती देखने को मिली। बीएसई का स्मॉलकैप इंडेक्स आज 0.03 फीसदी की मामूली बढ़त के साथ 14501.76 के स्तर पर बंद हुआ है। वहीं, मिडकैप इंडेक्स 0.19 फीसदी की बढ़त के साथ 15192.84 के स्तर पर बंद हुआ है।
बैंक शेयरों में भी सुस्ती नजर आई जिसके चलते बैंक निफ्टी 0.04 फीसदी की मामूली बढ़त दिखाते हुए 26826 के स्तर पर बंद हुआ है। मेटल और फार्मा को छोड़ कर निफ्टी से सभी अहम इंडेक्स आज हरे निशान में बंद हुए हैं। आज के कारोबार में निफ्टी का ऑटो इंडेक्स 0.2 फीसदी, एफएमसीजी इंडेक्स 0.3 फीसदी, आईटी इंडेक्स 0.07 फीसदी और रियल्टी इंडेक्स 0.3 फीसदी की बढ़त के साथ बंद हुए हैं।

हालांकि मेटल और फार्मा शेयर लाल निशान में बंद हुए है। निफ्टी का फार्मा इंडेक्स आज करीब 1 फीसदी और मेटल इंडेक्स 0.05 फीसदी गिरावट के साथ बंद हुए हैं। कारोबार के अंत में बीएसई का 30 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 33.29 अंक यानि 0.09 फीसदी की बढ़त के साथ 35,962.93 के स्तर पर बंद हुआ है। वहीं एनएसई का 50 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स निफ्टी 13.90 अंक यानि 0.13 फीसदी की बढ़त के साथ 10,805.45 के स्तर पर बंद हुआ है।

Higher Delivery Quantity (13/12/2018)

SingleDataSeriesExample_01
NAME DELV QTY  AVG QTY CLOSE
BAJAJHLDNG 30659 2594 2998.80
SCHAEFFLER 29466 4180 5395.80
MAHLOG 39282 5626 523.60
SUNDRMFAST 229099 35766 529.70
EXCELCROP 10353 1661 3464.85
KALPATPOWR 304847 65760 385.95
GILLETTE 14255 3334 6499.35
NH 588235 139002 205.25
WHIRLPOOL 139320 33006 1380.45

52 Week High Breakout (13/12/2018)

WhatsApp-Image-2017-07-31-at-6.11.11-PM-300x300-1
COLPAL 1303.50
HINDUNILVR 1855.55

Higher Delivery Quantity (10/12/2018)

SingleDataSeriesExample_01
NAME DELV QTY AVG QTY CLOSE
SKFINDIA 242910 8061 1847.05
SHK 822246 29923 171.50
HINDZINC 3371014 136531 270
HIMATSEIDE 406418 29835 206.95
KALPATPOWR 259135 28349 338.10
CUMMINSIND 954891 106274 772.70
BDL 49915 6725 267.75
ZENSARTECH 281998 45258 226.55
PNCINFRA 381583 75445 128.90

म्यूचुअल फंडों से हुआ बीमा उद्योग को नुकसान, 100 करोड़ खर्च कर बीमा सेक्टर म्यूचुअल फंड को देगा टक्कर

SingleDataSeriesExample_01
मुंबई- काफी लंबे समय से बीमा एजेंटों द्वारा ग्राहकों को मिससेलिंग के बाद अब बीमा उद्योग को इसकी याद आई है। खबर है कि बीमा उद्योग की संस्था लाइफ इंश्योरेंस काउंसिल ने बीमा उत्पादों के बारे में गलत धारणाओं को स्पष्ट करने और बीमा की जागरुकता बढ़ाने पर 100 करोड़ रुपये खर्च करने की योजना बनाई है।
सूत्रों के मुताबिक काउंसिल इसके लिए 100 करोड़ रुपये के मल्टीमीडिया अभियान चलाएगी जो अगले साल जनवरी से शुरू होगा। बता दें कि जनवरी से लेकर मार्च तक की अवधि बीमा कंपनियों के लिए महत्वपूर्ण होती है क्योंकि इस दौरान टैक्स बचाने के लिए बड़े पैमाने पर बीमा में लोग निवेश करते हैं। इसके साथ ही जहां बीमा उत्पादों के बारे में साक्षरता फैलाई जाएगी वहीं कुछ गलत धारणाओं को भी स्पष्ट किया जाएगा।
इसके लिए काउंसिल ने म्यूचुअल फंड उद्योग के सही है अभियान की तर्ज पर इंश्योरेंस जरूरी है, का नारा दिया है। काउंसिल का मानना है कि इसका मुख्य उद्देश्य जीवन को सुरक्षित करना और परिवार के लक्ष्य आधारित उद्देश्यों की पूर्ति करना है। लाइफ इंश्योरेंस काउंसिल की कमेटी में इसका निर्णय लिया गया है और इसके प्रमुख कमिटी सदस्यों में जीवन बीमा निगम (एलआईसी), आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल लाइफ, स्टार यूनियन दाइची तथा टाटा एआईए लाइफ हैं। कमिटी इस बारे में कई एजेंसियों से बात कर रही है जो इस कार्यक्रम को सही तरीके से चला सकें।
जानकारी के मुताबिक मल्टीमीडिया अभियान में रेडियो, टेलीवीजन, डिजिटल और जनसंपर्क प्लेटफॉर्म का समावेश होगा। यह आइडिया हालांकि म्यूचुअल फंडों के नारे म्यूचुअल फंड सही है से लिया गया है, लेकिन इसमें थोड़ा बदलाव किया गया है। म्यूचुअल फंड उद्योग ने इस अभियान पर करीबन 200 करोड़ रुपये वित्तीय वर्ष 2018 के दौरान खर्च किया है।
हालांकि बीमा अवेयरनेस कमिटी इस पर साल 2010 से काम कर रही है, लेकिन करीबन सात साल बाद पिछले साल नवंबर में इस पर सहमति बनी और इसे लागू करने में एक साल और निकल गए। बीमा उद्योग इस अभियान को लंबे समय तक चलाने का लक्ष्य रखा है ताकि लोगों को इसके बारे में सही तरीके से पता चल पाए।
-->