Get Rich with Market Mantra - Right Strategy for a Secure Life Earning.

Think & Grow Rich - Everyone Deserve to be Rich, Make the right connect with stock marketing courses.

Nimish Sir - Exclusive Guest of Speaker at CNBCTV -18. Sharing thoughts on Profit Booking Stock Market.

Money is Never Hard to Earn. Only Needs right Guidance.

 

बाजार में चौथे दिन भी तेजी

upcureve600
मुंबई- लगातार चौथे दिन बढ़त पर शेयर बाजार बंद हुआ है। कारोबार के अंत में बीएसई का 30 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 2.72 अंक यानि 0.01 फीसदी की मामूली बढ़त के साथ 37754.89 के स्तर पर बंद हुआ है। वहीं एनएसई का 50 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स निफ्टी 1.55 अंक यानि 0.01 फीसदी की बढ़त के साथ 11343.25 के स्तर पर बंद हुआ है।
बैंक शेयरों में खरीद के बल पर बैंक निफ्टी रिकॉर्ड ऊंचाई पर बंद होने में कामयाब रहा। बैंक निफ्टी आज 39 आंक चढ़कर 28923 पर बंद हुआ है। मिडकैप शेयरों में भी खरीदारी देखने को मिली। मिडकैप इंडेक्स 15 अंक चढ़कर 17749 पर बंद हुआ है।

आज के कारोबार में आईओसी, गेल कोल इंडिया, सन फार्मा, एनटीपीसी और इंडसइंड बैंक में सबसे ज्यादा बढ़त हुई जबकि अल्ट्राटेक सीमेंट, टाटा मोटर्स, पॉवर ग्रिड और एचसीएल टेक में सबसे ज्यादा गिरावट देखने को मिली। तेल-गैस, रियल्टी, मेटल और टेलीकॉम शेयरों में खरीदारी देखने को मिली। बीएसई का ऑयल एंड गैस इंडेक्स 0.32 फीसदी, रियल्टी इंडेक्स 2 फीसदी और टेलीकॉम इंडेक्स 0.51 फीसदी बढ़कर बंद हुआ है।
हालांकि आज के कारोबार में आईटी, आटो और पीएसयू बैंक शेयरों में कमजोरी देखने को मिली है। निफ्टी का आईटी इंडेक्स आज 0.54 फीसदी, ऑटो इंडेक्स 0.48 फीसदी और पीएसयू बैंक इंडेक्स 0.29 फीसदी की कमजोरी के साथ बंद हुआ है

हाइब्रिड फंड कटेगरी में आईसीआईसीआई प्रू आरएसएफ का बेहतर रिटर्न

stock market news
मुंबई- अग्रणी म्यूचुअल फंड कंपनी आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल म्यूचुअल फंड के रेगुलर सेविंग फंड (आरएसएफ) ने सिस्टेमेटिक विथड्राल प्लान (एसडब्ल्यूपी) में बेहतर रिटर्न दिया है और इसने निफ्टी 50 हाइब्रिड को पीछे छोड़ दिया है।
आंकड़ों के मुताबिक यह फंड मध्यम स्तर के जोखिम वाले निवेशकों के लिए इक्विटी में बेहतर फंड साबित हुआ है और इसे पहले आईसीआईसीआई प्रू एमआईपी 25 के नाम से जानते थे और यह कंजरवेटिव हाइब्रिड फंड कटेगरी में आता है। यह फंड मूलरूप से ऋण प्रतिभूतियों और मनी मार्केट संसाधनों के इक्विटी में निवेश करता है। सेबी के नियमों के मुताबिक कुल परिसंपत्ति का इक्विटी में 10-25 फीसदी निवेश करता है जबकि बाकी ऋण प्रतिभूतियों में करता है। ऋण प्रतिभूतियों में ज्यादा अलोकेशन इसके मूलधन की वृद्धि में मदद करता है और साथ ही जोखिम भी कम होता है। जबकि इक्विटी में कम अलोकेशन इसके ज्यादा रिटर्न में मदद करता है।
आंकड़े बताते हैं कि इस फंड ने 3 साल में 11.53 फीसदी का रिटर्न दिया है, जबकि निफ्टी हाइब्रिड कंपोजिट डेट ने 9.13 फीसदी का रिटर्न दिया है। जो निवेशक रिटायरमेंट के करीब होते हैं या फिर नियमित आय की उम्मीद में रहते हैं वे रिटायरमेंट राशि का कुछ हिस्सा इस फंड में एसडब्ल्यूपी के लिए लगा सकते हैं। एसडब्ल्यूपी आपको म्यूचुअल फंड स्कीम से हर महीने या किसी समयावधि पर आपकी जरूरत के मुताबिक राशि निकालने की सुविधा देता है। लेकिन यह याद रखें कि ऋण प्रतिभूतियों में निवेश पूरी तरह से जोखिम मुक्त नहीं होता है क्योंकि यह फंड बाजार से जुड़ी ऋण प्रतिभूतियों में निवेश करता है। इसलिए इसमें पूंजी के नूकसान की संभावना रहती है और आपको रिटायरमेंट का कुछ हिस्सा ही ऋण प्रतिभूतियों में निवेश करना चाहिए।
यह फंड मल्टी कैप का नजरिया अपनाता है और इसने बाजार के मंदी में भी ऊंचा रिटर्न दिया है और लेकिन तेजी के बाजार में नियंत्रित रिटर्न दिया है। ऋण प्रतिभूतियों में यह फंड मूलरूप से सरकारी प्रतिभूतियों और कॉर्पोरेट बांड में निवेश करता है। लंबे समय में पूंजी में बढ़त के लिए निवेशक इस फंड को विकल्प के रूप में देख सकते हैं। आंकड़े बताते हैं कि आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल रेगुलर सेविंग स्कोर्स इसके समकक्ष कंपनियों की तुलना में एसडब्ल्यूपी प्रदर्शन के रूप में ऊंचा रिटर्न दिखाता है।
एसडब्ल्यूपी पेआउट्स को अगर तीन, पांच और सात सालों की अवधि में देखें तो इस स्कीम ने सालाना 11.6, 12.5 और 10.8 फीसदी का यील्ड दिया है, जबकि इस कटेगरी में शीर्ष क्वार्टाइल फंड्स का सालाना यील्ड 10, 11 और 10 फीसदी उपरोक्त अवधि में रहा है। अगर निवेशक निवेश के तीन साल के बाद एसडब्ल्यूपी की शुरुआत करता है तो उसे इंडेक्शेसन लाभ का दावा करने में मदद मिलती है। एसडब्ल्यूपी का रिटर्न शुरुआती निवेश यानी एक लाख रुपये के निवेश पर आंका जाता है जो मासिक 1,000 रुपये पेआउट्स के रूप में होता है। यह फंड मुख्य रूप से इक्विटी में एक्सपोजर 11-17 फीसदी रखता है और लॉर्ज कैप वाले इक्विटी पर फोकस करता है।

एसआईपी की चमक पड़ रही है धीमी

stock market news
मुंबई- जिस सिस्टेमेटिक इनवेस्टमेंट प्लान यानी एसआईपी के जरिए म्यूचुअल फंड पिछले कुछ सालों से तेजी से बढ़ रहा था, वह एसआईपी अब अपनी चमक खोती जा रही है। हालांकि जनवरी की तुलना में फरवरी में एसआईपी के जरिए 8,095 करोड़ रुपये आए थे, लेकिन म्यूचुअल फंड उद्योग से 4.96 लाख एसआईपी खाते कम हो गए हैं।
आंकड़े बताते हैं कि फरवरी 2019 में कुल 2.59 करोड़ एसआईपी खाते थे, जिसमें से 4.96 लाख खाते कम हो गए। इसी तरह जनवरी में 5.36 लाख खाते कम हुए तो दिसंबर 2018 में 5.36 लाख खाते कम हुए थे। इसी तरह नवंबर 2018 में 4.44 लाख खाते कम हुए तो अक्टूबर में 4.66 लाख और सितंबर में 4.79 लाख खाते कम हुए थे। यानी अप्रैल 2017 से मार्च 2018 का आंकड़ा देखें तो कुल 2.11 करोड़ एसआईपी खाते में से करीबन 35 लाख खाते कम हो गए और इस दौरान कुल 67,190 करोड़ रुपये की राशि एसआईपी से आई।
भारतीय म्यूचुअल फंड में एसआईपी खातों की इस कमी का कारण शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव रहा है और कुछ एसआईपी में भी निवेशकों को नुकसान हुआ है। आमतौर पर म्यूचुअल फंड में मासिक 10 लाख एसआईपी खाते खुलते थे लेकिन जब से आधार को लेकर उच्चतम अदालत ने आदेश दिया, तब से यह घटकर 7 लाख हो गया है। इसका अर्थ यह हुआ कि सभी निवेशकों के केवाईसी के लिए पैन कार्ड अनिवार्य है, जबकि पहले आधार था।
म्यूचुअल फंडों के लॉर्ज कैप, मिड कैप और स्माल कैप म्यूचुअल फंड कटेगरी ने नकारात्मक रिटर्न पिछले साल दिया है। इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम (ईएलएसएस) और इक्विटी फंडों की स्कीमों ने मासिक आधार पर 17 फीसदी का घाटा फरवरी में दिया है जबकि पूरे उद्योग का असेट अंडर मैनेजमेंट (एयूएम) 23.16 लाख करोड़ रुपये रहा है।

Higher Delivery Quantity (13/03/2019)

SingleDataSeriesExample_01
NAME DELV QTY AVG QTY CLOSE
IEX 1407872 36641 161.40
NH 368747 17364 221
NAUKRI 623290 78705 1840.90
SUPRAJIT 224977 29360 224.90
PRESTIGE 2462991 354864 205.85
GESHIP 196464 28951 302.30
FINPIPE 99237 14925 540.10
VTL 96654 26339 1086.15
SKFINDIA 82652 24362 1968.85

52 Week High Breakout (12/03/2019)

WhatsApp-Image-2017-07-31-at-6.11.11-PM-300x300-1
GUJFLUORO 1056.25
HAVELLS 765.45
ICICIBANK 388.20
ASTRAL 1247.15
GODFRYPHLP 1053.20
TITAN 1086.45
BATAINDIA 1368.25
BAJAJHLDNG 3343.35
RELIANCE 1331.35
-->