Monthly Archives: August 2017

52 Week High Breakout (31/08/17)

HEG 678.65
BOMDYEING 104.45
VAKRANGEE 502.20
JSWSTEEL 259.05
HERITGFOOD 1518.05
INSECTICID 844.45
HINDPETRO 485.95
TRIDENT 99.40
IBVENTURES 217.75
L&TFH 197.10
KIOCL 110.25
WELCORP 138.50
CONCOR 1311.35
DHFL 503.40
MAHSCOOTER 2462.60
IOC 452.85
ESSELPACK 279.85
BEL 191.85
PHILIPCARB 674.95
BLUESTARCO 755.15

मामूली बढ़त के साथ सेंसेक्स बंद

Successful Investor in India

मुंबई- आज कमजोर शुरुआत के बाद बाजार में रिकवरी देखने को मिली। आज के कारोबार में निफ्टी 9856.95 तक लुढ़का था, तो सेंसेक्स ने 31551.85 तक गोता लगाया था। बीएसई का 30 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 84 अंक यानि 0.25 फीसदी की बढ़त के साथ 31,730 के स्तर पर बंद हुआ है। एनएसई का 50 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स निफ्टी 33.5 अंक यानि 0.3 फीसदी की तेजी के साथ 9918 के स्तर पर बंद हुआ है। हालांकि बैंक निफ्टी सपाट होकर 24,318 के स्तर पर बंद हुआ है।

मिडकैप और स्मॉलकैप इंडेक्स में भी अच्छी रिकवरी देखने को मिली है। बीएसई का मिडकैप इंडेक्स 0.25 फीसदी बढ़कर 15540 के स्तर पर बंद हुआ है। आज के कारोबार में बीएसई का मिडकैप इंडेक्स 15488 तक गिरा था। निफ्टी का मिडकैप 100 इंडेक्स 0.4 फीसदी बढ़कर 18277.5 के स्तर पर बंद हुआ है। आज के कारोबार में निफ्टी का मिडकैप 100 इंडेक्स 18200 के नीचे फिसला था। बीएसई का स्मॉलकैप इंडेक्स 0.8 फीसदी मजबूत होकर 16000 के ऊपर बंद हुआ है। आज के कारोबार में बीएसई का स्मॉलकैप इंडेक्स 15880 तक टूटा था।

आईटी, ऑटो, एफएमसीजी, रियल्टी, कंज्यूमर ड्युरेबल्स, पावर और ऑयल एंड गैस शेयरों में खरीदारी से बाजार को सहारा मिला है। निफ्टी के आईटी इंडेक्स में 0.6 फीसदी, ऑटो इंडेक्स में 0.4 फीसदी और एफएमसीजी इंडेक्स में 0.3 फीसदी की बढ़त दर्ज की गई है। बीएसई के रियल्टी इंडेक्स में 1.1 फीसदी, कंज्यूमर ड्युरेबल्स इंडेक्स में 0.6 फीसदी, पावर इंडेक्स में 0.75 फीसदी और ऑयल एंड गैस इंडेक्स में 0.6 फीसदी की मजबूती आई है। मेटल और फार्मा शेयरों में बिकवाली देखने को मिली है।

आज के कारोबार में दिग्गज शेयरों में विप्रो, बजाज ऑटो, टाटा पावर, रिलायंस इंडस्ट्रीज, एचसीएल टेक, मारुति सुजुकी, सिप्ला, एशियन पेंट्स, पावर ग्रिड और एचयूएल 2.7-1.1 तक बढ़कर बंद हुए हैं। हालांकि दिग्गज शेयरों में भारती इंफ्रा, बॉश, कोल इंडिया, अरविंदो फार्मा, इंफोसिस, महिंद्रा एंड महिंद्रा, डॉ रेड्डीज और ओएनजीसी 2.5-1 फीसदी तक लुढ़ककर बंद हुए हैं।

मिडकैप शेयरों में कंसाई नेरोलैक, जीई टीएंडडी, सेंट्रल बैंक, एमआरपीएल और नाल्को 7.9-3.8 फीसदी तक मजबूत होकर बंद हुए हैं। स्मॉलकैप शेयरों में वाडीलाल इंडस्ट्रीज, शेफलर इंडिया, किरी इंडस्ट्रीज, सारडा एनर्जी और एडलैब्स एंटरटेनमेंट 19.8-10 फीसदी तक उछलकर बंद हुए हैं।

52 Week High Breakout (28/08/17)

WhatsApp-Image-2017-07-31-at-6.11.11-PM-300x300
BAJAJHLDNG 2750.80
ASAHIINDIA 334.60
HSCL 92.95
HERITGFOOD 1376.35
JSWSTEEL 246.05
HINDPETRO 466.20
JSL 94.35
VAKRANGEE 472.10
SCI 94.70
BEL 187.95
BAJAJFINSV 5506.25
FELDVR 38.75
TATASTEEL 639.00

अगस्त में आईपीओ के लिए कंपनियों की रिकॉर्ड फाइलिंग

bombay-stock-exchange-building-1440388695-1693300

मुंबई- बाजार के तेजी के माहौल और लगातार कंपनियों के प्रारंभिक सार्वजनिक निर्गम (आईपीओ) की सफलता के बाद अगस्त महीने में कंपनियों ने निर्गमों के लिए जमकर मसौदा जमा किया है। इससे आनेवाले महीनों में आईपीओ की अच्छी खासी लाइन लग सकती है।

पूंजी बाजार नियामक भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) के आंकड़े बताते हैं कि अगस्त महीने में कुल 10 कंपनियों ने आईपीओ लाने के लिए मसौदा (डीआरएचपी) फाइल किया है और इन कंपनियों के आईपीओ का आकार भी बड़ा है। हालांकि इसमें से कुछ कंपनियों के आईपीओ तो अगले महीने ही आ सकते हैं। जिन कंपनियों ने मसौदा जमा कराया है, उसमें एचडीएफसी स्टैंडर्ड लाइफ इंश्योरेंस कंपनी, रिलायंस निप्पोन लाइफ असेट मैनेजमेंट, बार्बिक नेशन हॉस्पिटालिटी, भारत रोड नेटवर्क्स आदि हैं।

इसी तरह अन्य कंपनियों में एस्टर डीएम हेल्थकेयर, न्यू इंडिया अश्योरेंस कंपनी, जनरल इंश्योरेंस कॉर्पोरेशन, महिंद्रा लॉजिस्टिक्स, गोदरेज एग्रोवेट, एसबीआई लाइफ इंश्योरेंस कंपनी आदि हैं। इससे पहले जुलाई महीने में आईसीआईसीआई लोंबार्ड जनरल इंश्योरेंस, खादिम इंडिया ने मसौदा जमा कराया था। बता दें कि उपरोक्त कंपनियों में से बीमा कंपनियां सर्वाधिक राशि जुटाने वाली हैं।

पिछले कुछ सालों में अगस्त ऐसा महीना है, जिसमें इतनी कंपनियों ने आईपीओ के लिए मसौदा जमा कराया है। बाजार के विश्लेषकों का कहना है कि इस साल में अच्छी कंपनियां बाजार में आईपीओ लेकर आ रही हैं, जिससे निवेशकों को अच्छे शेयर मिलेंगे और साथ ही उन्हें अच्छा रिटर्न भी मिल सकता है।

पिछले कैलेंडर साल की बात करें तो 26,000 करोड़ रुपये आईपीओ के जरिए जुटाए गए थे। इसकी तुलना में अभी इस साल 4 महीने बाकी हैं और बाजार में तेजी बरकरार है। जबकि 2010 में सर्वाधिक 36,300 करोड़ रुपये ही जुटाए गए थे। इस तरह से देखा जाए तो 2010 का भी रिकॉर्ड इस साल टूटेगा। विश्लेषकों का मानना है कि इस साल में अब तक कुछ एक आईपीओ को छोड़ दें तो बाकी सभी ने बेहतर रिटर्न निवेशकों को दिए हैं। कुछ आईपीओ में इस साल दोगुना रिटर्न मिला है जिससे निवेशकों ने अच्छे पैसे बनाए हैं।

3 दिन हो सकता है आईपीओ के सूचीबद्धता का नियम

bombay-stock-exchange-building-1440388695-1693300

मुंबई- लगातार प्रारंभिक सार्वजनिक निर्गम (आईपीओ) सेगमेंट में सुधार ला रहे पूंजी बाजार नियामक भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) एक बड़ा सुधार करने की योजना बनाई है, जिसके तहत आईपीओ की सूचीबद्धता की समय सीमा 3 दिन की जा सकती है। फिलहाल यह सीमा 6 दिन है।

सूत्रों के मुताबिक सेबी सितंबर महीने में ही यह फैसला कर सकता है और पहली सितंबर को हो रही बोर्ड मीटिंग में यह संभव है। बता दें कि फिलहाल आईपीओ बंद होने के 6 दिन के अंदर कंपनी के शेयर को स्टॉक एक्सचेंजों पर सूचीबद्ध कराना होता है। पहले यह सीमा 12 दिन थी, लेकिन पिछले साल जनवरी में सेबी ने इसे घटाकर 6 दिन कर दिया था। इसके पीछे मुख्य वजह यह है कि निवेशकों के निवेश किए गए पैसे 6 दिन या 12 दिन तक न रुके रहें, बल्कि 3 दिन में ही उन्हें इसका रिटर्न मिलना शुरू हो जाए।

सूत्रों ने बताया कि सेबी इस मामले में सितंबर महीने में फैसला कर सकता है। बता दें कि पिछले कुछ समय में सेबी ने निवेशकों के पक्ष में अच्छे फैसले किए हैं। इसके तहत निवेशक अभिदान के लिए आवेदन बैंकों, ब्रोकरों, डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट्स आदि के पास जमा कर सकते हैं। पहले यह फार्म केवल बैंक और ब्रोकरों के पास ही जमा होता था। इसके साथ ही आईपीओ के समय शेयरों को खरीदने के लिए भुगतान को भी आसान बना दिया गया था, जिसके तहत अस्बा (अप्लीकेशन सपोर्टेड बाई ब्लॉक्ड अमाउंट) को सभी कटेगरी के निवेशकों के लिए अनिवार्य किया गया था।

बता दें कि पिछले कुछ समय से बाजार में आए आईपीओ में रिटेल निवेशकों की अच्छी भागीदारी बढ़ी है, जिससे आईपीओ को अच्छा अभिदान मिला है। कुछ ने तो अभिदान के मामले में रिकॉर्ड तोड़ा तो अधिकतर आईपीओ ने निवेशकों को उम्मीद से ज्यादा रिटर्न दिया। आनेवाले महीने में वैसे भी बेहतर आईपीओ आ रहे हैं, जिनसे बाजार को अच्छी तेजी मिलने की उम्मीद है।

-->