Get Rich with Market Mantra - Right Strategy for a Secure Life Earning.

Think & Grow Rich - Everyone Deserve to be Rich, Make the right connect with stock marketing courses.

Nimish Sir - Exclusive Guest of Speaker at CNBCTV -18. Sharing thoughts on Profit Booking Stock Market.

Money is Never Hard to Earn. Only Needs right Guidance.

 

Higher Delivery Quantity (14/12/2018)

SingleDataSeriesExample_01
NAME DELV QTY AVG QTY CLOSE
ASTERDM 2563151 49218 150.20
ECLERX 102266 5580 1099.95
ITDCEM 354123 43031 109
ALKEM 55956 10015 1878.85
SOMANYCERA 319175 57114 313.60
JMFINANCIL 1190490 24878 86.35
SUDARSCHEM 45387 13268 335.85
CONCOR 678966 203193 650.65
SUNCLAYLTD 3294 1191 3571.15

52 Week High Breakout (14/12/2018)

WhatsApp-Image-2017-07-31-at-6.11.11-PM-300x300-1
VINATIORGA 1675.40

रामदेव ला सकते हैं आईपीओ

IPO Investment
मुंबई-बाबा रामदेव की पतंजलि कंपनी जल्द ही प्रारंभिक सार्वजनिक निर्गम (आईपीओ) ला सकती है। हालांकि कंपनी ने अभी तक इसके लिए कोई मसौदा पूंजी बाजार नियामक सेबी के पास जमा नहीं कराया है, पर इस तरह का संकेत खुद बाबा रामदेव नहीं दिया है।
रामदेव ने एक कार्यक्रम के दौरान ऐसे संकेत दिए और कहा कि एक महीने के भीतर वह कोई ‘अच्छी खबर’ दे सकते हैं। योग गुरू पतंजलि की लिस्टिंग से जुड़े सवाल पर अपनी प्रतिक्रिया दे रहे थे। उन्होंने कहा कि अगर किफायती दरों पर जरूरी सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएं तो देश को एक बड़े मैन्युफैक्चरिंग हब में बदला जा सकता है। इसके वास्ते मैन्युफैक्चरिंग इंडस्ट्रीज के लिए कुछ क्षेत्र चिह्नित किए जाने चाहिए। उन्होंने कहा कि कई उद्योगों को हो रही दिक्कतों को देखते हुए बैंकों को उनकी मदद के लिए आगे आना चाहिए।
इस साल अक्टूबर में रामदेव ने कहा था कि न तो वह फॉरेन इक्विटी यानी पूंजी हासिल करना चाहते हैं न ही स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध कराना चाहते हैं, क्योंकि पतंजलि एक चैरिटेबल फर्म है। बाबा रामदेव ने एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि पतंजलि आयुर्वेद का लक्ष्य 2020 तक देश की सबसे बड़ी एफएमसीजी कंपनी हिंदुस्तान युनिलीवर (एचयूएल) को टर्नओवर के मामले में पीछे छोड़ना और 2025 तक दुनिया का सबसे बड़ा एफएमसीजी ब्रांड बनना है।

पर्सनल एक्सीडेंट कवर के लिए नहीं लगेगा पैसा

Technical Analysis
मुंबई- भारतीय बीमा विकास प्राधिकरण (आईआरडीएआई) ने एक जनवरी से दूसरी बार नई गाड़ी लेनेवालों के लिए राहत दे दी है। सके तहत अब आपको दूसरी गाड़ी के लिए पर्सनल एक्सीडेंट कवर के लिए अतिरिक्त पैसा नहीं देना होगा।
इस तरह अगर आप 1 जनवरी के बाद नई गाड़ी लेने की सोच रहे हैं और आपके पास पहले से कोई गाड़ी है तो आपको अलग से पर्सनल एक्सीडेंट कवर के लिए पैसा देने की जरूरत नहीं पड़ेगी। अब तक यह जरूरी था कि यदि आप नई गाड़ी ले रहे हैं तो आपको कंपल्सरी पर्सनल एक्सीडेंट (सीपीए) कवर लेना होता था, लेकिन बीमा रेग्युलेटर ने इसकी अनिवार्यता खत्म कर दी है।
आईआरडीएआई ने एक अधिसूचना जारी कर कहा है कि 1 जनवरी 2019 से ग्राहकों को खरीदे गए हर नए वाहन के लिए अलग से सीपीए कवर नहीं खरीदना होगा। अधिसूचना के मुताबिक, आईआरडीएआई ने सीपीए कवर को हटाने का निर्णय लिया है और वाहन मालिक-चालक के लिए एक स्टैंडअलोन सीपीए कवर जारी करने की अनुमति दी है। वर्तमान में एक वाहन खरीदार को अपने द्वारा खरीदे जाने वाले प्रत्येक वाहन के लिए एक सीपीए खरीदना पड़ता है।
आईआरडीएआई ने 750 रुपये के वार्षिक प्रीमियम के लिए वाहन-चालक के लिए न्यूनतम बीमा कवर बढ़ाकर 15 लाख रुपये कर दिया था। इससे पहले, दोपहिया वाहनों और निजी कारों / वाणिज्यिक वाहनों के लिए पूंजी बीमा राशि (सीएसआई) क्रमशः 1 लाख रुपये और 2 लाख रुपये थी। अधिसूचना में कहा गया है कि चूंकि एक सामान्य व्यक्तिगत दुर्घटना कवर में मोटर दुर्घटनाओं के खिलाफ कवर भी शामिल है। अगर किसी मालिक-चालक के पास कम से कम 15 लाख रुपये के सीएसआई के लिए मृत्यु और स्थायी विकलांगता (कुल और आंशिक) के खिलाफ 24 घंटे का व्यक्तिगत दुर्घटना कवर है, तो इसके लिए अलग सीपीए कवर लेने की कोई आवश्यकता नहीं है

गवर्नेंस फ्रेमवर्क पर नहीं बनी सहमति

stock market news
मुंबई- नए गवर्नर शक्तिकांत दास के नेतृत्व में हुई भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) बोर्ड की बैठक में गवर्नेंस फ्रेमवर्क को लेकर चर्चा हुई। बैठक में हालांकि इस मसले पर कोई सहमति नहीं बनी और यह तय किया गया कि आगे भी इस बर विचार-विमर्श किया जाएगा।
भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के मुख्य महाप्रबंधक जोस जे कट्टूर ने बताया कि बोर्ड की बैठक में पूर्व गवर्नर ऊर्जित पटेल के बतौर डिप्टी गवर्नर और गवर्नर किए गए कामों की सराहना की गई। उन्होंने कहा, ‘बैठक में मौजूदा आर्थिक स्थिति, वैश्विक और घरेलू चुनौतियों के साथ तरलता की स्थिति को लेकर चर्चा की गई। वेबसाइट पर जारी बयान के मुताबिक ट्रेंड एंड प्रोग्रेस ऑफ बैंकिंग इन इंडिया (2017-18) को लेकर भी चर्चा हुई।
-->